BookShelf

सोमवार, 25 सितंबर 2017

हिटलर-बटलर

हास्य-व्यंग्य



पता नहीं कितने भाई-बहिन थे पर दो का मुझे पता है-हिटलर और बटलर....

हिटलर ख़बरें बनाता था और बटलर उन्हें बताकर लोगों को डराता था...

‘सारी टॉफ़ियां मुझे दे दो वरना मेरा बड़ा भाई हिटलर बहुत बदमाश है, वह आकर तुमसे छीन लेगा....’ बच्चों को समझाते हुए बटलर बिलकुल किसी-भी यूनिवर्सिटी का प्रोफ़ेसर लगता.....


इस तरह दोनों भाई दिन-भर में कई टॉफ़ियां जमा कर लेते।

उनमें से दो-चार उन बच्चों को दे देते जो उनकी हरक़तो पर चुप्पी साधे रखते, बाक़ी सब ख़ुद गड़प कर जाते।


-संजय ग्रोवर
25-09-2017




1 टिप्पणी:

  1. Very interesting blog. A lot of blogs I see these days don't really provide anything that attract others, but I'm most definitely interested in this one. Just thought that I would post and let you know.

    उत्तर देंहटाएं

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

Google+ Followers

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं 'पुराने पोस्ट'(Older Posts) पर क्लिक करें-