रविवार, 17 फ़रवरी 2013

देखा!



रेखाकृति: संजय ग्रोवर
मेरिटोन्मत्त लंपटाचार्य ने अपने नयन-कटोरों में पड़े आत्मविश्वास को सिक्कों की तरह उछालते हुए एकलव को संबोधित किया, ‘‘देखा, हम शिक्षा न देकर भी दक्षिणा ले लेते हैं। उंगली ख़ुद करते हैं अंगूठा तुम्हारा काट लेते हैं। मुंह हम मारेंगे लंपट तुम कहलाओगे क्योंकि प्रसारण में तो चौतरफ़ा हम ही हम पसरे हैं..........’’

एकलव धीमे से मुस्कुराया, दूसरे हाथ से रिमोट उठाकर टी वी ऑफ़ कर दिया और फ़िर से अपनी पोस्ट लिखने में व्यस्त हो गया।

-संजय ग्रोवर
17-02-2013

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं 'पुराने पोस्ट'(Older Posts) पर क्लिक करें-