बुधवार, 24 नवंबर 2010

“पागलों का आत्मालाप”

(महापागलों, डब्बू मिश्र और संजय ग्रोवर की चैट का चरमोत्कर्ष)
Today (25-11-2010)
Dabbu Mishra
11:13am
हिच्च्च्च्च्च ..... कोई हे
You (संजय ग्रोवर)
11:13am
koi nahiN
Dabbu Mishra
11:14am
अच्छा है अब मैं इत्मीनान से अपने को बता सकूंगा
You (संजय ग्रोवर)
11:14am
to fir maiN chalta hun
Dabbu Mishra
11:14am
अरे कोई है क्या
किसी का लिखा कुछ दिख रहा है
उफ्फ्फ्प् बच गया
You (संजय ग्रोवर)
11:15am
aaj tak to koi bachaa nahin..
main hun kya ?
Dabbu Mishra
11:16am
अच्छा य... तो बताओ मेरा आइना कहां रहता है
You (संजय ग्रोवर)
11:16am
are koi bataao..
har paagal is duniya ka aayina hai
Dabbu Mishra
11:17am
कोई नही बता सकेगा मेरे चेहरे हाहाहाहाहार मानते हो
You (संजय ग्रोवर)
11:17am
chehre jit jate hain asliyat haar jaati hai..
Dabbu Mishra
11:18am
पागलों को पागल नही बोलते ऐसा दुनिया कहती है औऱ खुद को ही पागल बोलने से बचती है
You (संजय ग्रोवर)
11:15am
jitna bachti hai utna fansti hai..
Dabbu Mishra
11:16am
यही तो दुनिया की फांस है
You (संजय ग्रोवर)
11:16am
bhaad me jaaye
Dabbu Mishra
11:16am
कौन.... पागल या दुनिया
You (संजय ग्रोवर)
11:17am
duniya khud bhaad hai.paagal ko koi aur bhaad dhundhni chaahiye
Dabbu Mishra
11:18am
अरेरेरेरेरेरेरेर मैं तो सोचा था कि दुनिया के भाड में भुनने वाले चने पागल ही हैं
You (संजय ग्रोवर)
11:19am
paagal lohe ke chane hote haiN, har koi nahin chabaa sakta.
Dabbu Mishra
11:20am
औऱ लोहे को लोहा ही काटता है हाहाहाहा
You (संजय ग्रोवर)
11:21am
that's all. ab zara is chatt ka natija dekho, main kya karta hun
(फ़ेसबुक से साभार, लिया है मार ;-)

13 टिप्‍पणियां:

  1. ये एक अलग किस्म का मजाकिया अंदाज में बनाया गया ब्लॉग वास्तव में बहुत ही गंभीरता से समजना होगा | क्यूंकि हंसी-खुशी के पीछे भी गहराई होती है | बधाई.............. पागल........हा हा हा हा......... |

    उत्तर देंहटाएं
  2. नीरज् जी ने कहा है
    जिसमें जितनी आग भरी है उसमें उतना पानी है
    जिसमें जितना पागलपन है, वो उतना ही ज्ञानी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक पाकिस्तानी शायर का शेर है-
    शहर के दुराहे पर एक शख्स देखा था
    जाने क्या हवाओं पर उंगलियों से लिखता था

    उत्तर देंहटाएं
  4. भूखे पेट समझ न आये, भर कर पेट यहॉं आना,
    वक्‍त न जाने कितना खाये, गप्‍पों का पागलखाना।
    कोशिश कर लो शायद तुमको समझ जरा सा आ जाये
    राज़ छुपा है इसमें गहरा समझ सको तो समझाना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या आपने हिंदी ब्लॉग संकलक हमारीवाणी पर अपना ब्लॉग पंजीकृत किया है?


    अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें.
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    उत्तर देंहटाएं
  7. अलग तबीयत की पोस्ट है और इसे समझने के लिए कम से कम इतना पागल होना जरूरी है जितना भाई वीरेन्द्र जैन द्वारा उद्धृत शे'र में कहा गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुछ अलग किस्म की पोस्ट है, लेकिन बढ़िया है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  10. लेखन के मार्फ़त नव सृजन के लिये बढ़ाई और शुभकामनाएँ!
    -----------------------------------------
    जो ब्लॉगर अपने अपने ब्लॉग पर पाठकों की टिप्पणियां चाहते हैं, वे वर्ड वेरीफिकेशन हटा देते हैं!
    रास्ता सरल है :-
    सबसे पहले साइन इन करें, फिर सीधे (राईट) हाथ पर ऊपर कौने में डिजाइन पर क्लिक करें. फिर सेटिंग पर क्लिक करें. इसके बाद नीचे की लाइन में कमेंट्स पर क्लिक करें. अब नीचे जाकर देखें :
    Show word verification for comments? Yes NO
    अब इसमें नो पर क्लिक कर दें.
    वर्ड वेरीफिकेशन हट गया!
    ----------------------

    आलेख-"संगठित जनता की एकजुट ताकत
    के आगे झुकना सत्ता की मजबूरी!"
    का अंश.........."या तो हम अत्याचारियों के जुल्म और मनमानी को सहते रहें या समाज के सभी अच्छे, सच्चे, देशभक्त, ईमानदार और न्यायप्रिय-सरकारी कर्मचारी, अफसर तथा आम लोग एकजुट होकर एक-दूसरे की ढाल बन जायें।"
    पूरा पढ़ने के लिए :-
    http://baasvoice.blogspot.com/2010/11/blog-post_29.html

    उत्तर देंहटाएं
  11. गुड्डोदादी4 दिसंबर 2010 को 4:20 am

    सुंदर प्रस्तुति अलग सी

    उत्तर देंहटाएं
  12. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप, आपके परिवार तथा इष्टमित्रो को होली की हार्दिक शुभकामना. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    उत्तर देंहटाएं

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं 'पुराने पोस्ट'(Older Posts) पर क्लिक करें-