शनिवार, 1 जनवरी 2011

शुभकामना ले लो !

आज-कल कुछ कटा-फटा रहने लगा हूं वरना ज़िंदगी शुभकामनाओं से लदी-फदी रहती थी। बोझ से कई बार इतना झुक जाता था कि लोग समझते विनम्रता के कारण झुक गया हूं। वातावरण शुभकामनाओं से लदर-फदर था। अलमारी खोलते ही कच्छे-बनियानों की तरह शुभकामनाएं आ-आकर गिरतीं। फ्रिज में शुभकामनाएं इतनी हो जातीं कि सब्ज़ी रखने की जगह न बचतीं। फ्रीजर में शुभकामनाएं ख़ून की तरह जम जातीं।
इधर देखता हूं कि लोगों में और कलंडरों में फ़र्क़ करना मुश्किल होता जा रहा है। चलते-फिरते, आते-जाते, गिरते-पड़ते लोग शुभकामनाएं उछाल जाते हैं। जो लोग शादियों में देते थे भले लिव-इन से चिढ़े रहते हों पर शुभकामनाएं दिए बिना यहां भी नहीं छोड़ते। वैलेंटाइन डे पर शुभकामनाएं पत्थर की तरह उठा-उठाकर मारते हैं।
कई दफ़ा लगता है सरकारी दफ्तर तो खोले ही इसी लिए गए हैं। सुबह अटेंडेंस मारने के बाद अगला काम यही होता है, शुभकामनाएं बांटों। फोन किसलिए लगवाएं हैं दफ्तर में ! लगता है शुभकामनाएं न दी तो सरकार डिसमिस कर देगी, एक ही तो काम दिया था वह भी ढंग से नहीं किया।
एक दिन मैं बैंक मैनेजर के पास पहुंच गया। मैंने कहा एफ. डी. कर दो। बोला कितने लाख हैं ? मैंने बताया करोड़ों शुभकामनाएं
इकट्ठा हो गयी हैं। देखने लगा ऊपर से नीचे तक। मैंने सोचा अभी कहेगा, ‘पागल तो नहीं हो !’ वह बोला, ‘हमसे अपने स्टाफ़ की नहीं संभलती, तुम्हारी का क्या करेंगे ? कोई स्कीम आयी तो बताऊंगा।’
घर आया तो कबाड़ी बाहर ही मिल गया, बोला, ‘अख़बार की रद्दी या लोहा हो तो बात करना, टाइम नहीं है अपने पास।’
आगे लिखने का मूड नहीं है। आप शुभकामनाएं दीजिए कि मूड बन जाए।

-संजय ग्रोवर

25 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है गुरूजी! छा गए....
    एक झोला शुभकामनाएं मेरी तरफ से भी स्वीकार कीजिये...
    यही एक चीज तो बची है मुफ्त बाँटने के लिए...
    एक जनवरी की शाम नुसरत फ़तेह अली खान के नाम

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल रात को कुछ शुभकामनाऎं बच गई थी, ओर कुछ मित्रो ने मिलती जुलती भेज दी कापी कर के, सोच ही रहा था किस के पल्ले बांधू इन शुभकमनाऒ को, तो आप पर नजर पड गई, अब मना नही करना जहां इतनी झेल रहे हो सॊ पचास ओर सही, निकालो अपनी झोली ओर यह समभालो जी, शुभकामनाऎ पुरे साल भर कि(पिछले साल की )राम राम

    उत्तर देंहटाएं
  3. सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

    साल ग्यारह आ गया है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. .
    .
    .
    जहाँ करोड़ों का बोझ लादे घूम रहे हैं... तो एक अदद मेरी भी ले ही लीजिये...
    अरे वही...शुभकामना!


    ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरे भी बहुत अपच हो गया है कहें तो आपके फिक्‍स डिपोजिट में भेज दूं? अच्‍छा व्‍यंग्‍य है, मन को राहत मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यूँ तो हमारे पास कम है शुभकामनायें ...
    फिर भी आप ले ही लीजिये ...!

    नव वर्ष की बहुत शुभकामनायें ...!

    उत्तर देंहटाएं
  7. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे भाई, शुभकामना का मतलब होता है 'एक मैं ही हूँ तुम्‍हारा शुभचिन्‍तक, जिसके चाहने से तुम्‍हारा जीवन सार्थक हो जायेगा (वरना तुम किस खेत की मूली हो, तुम्‍हारे बस का क्‍या है, वगैरह, वगैरह)।
    लोग दे रहे हैं तो ले लो भाई, कया एतराज करना।
    कम मिली हों तो एक मेरी तरफ से भी ले लो।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Buzurgon ne kaha hai ghar se koi khali hath n jaye,BHAGWAN OUR APNA APMAN HOTA HAI.Lihaza ek adad?

    उत्तर देंहटाएं
  10. ak subhkamna meri bhi le lo is gadhe ki battisi ke har dant se nikalti hai ek subh kamna kaho to battisi nipor doo,haaa haa haaa,
    gadha-battisi

    उत्तर देंहटाएं
  11. शुभकामनायें@शुभकामनायें.COM

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ चीज़ें ही फ्री रह गई हैं दुनिया में जैसे बिना बात गाली, शादी के बाद साली, कार्यक्रम में ताली और सरकारी नौकरी में माली, शुभकामना भी फ्री है पर मन में क्या है क्या पता, मुंह में राम बगल में छुरी.
    संजय अच्छा व्यंग्य है, रुचिकर है
    रेखा राजवंशी
    ऑस्ट्रेलिया

    उत्तर देंहटाएं
  13. मंत्री और राजनेताओं ने नया तरीका निकाला है, वे उन्हें मिली शुभकामनाओं को चौराहे पर होर्डिंग पर लगवा देते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. mann to nahi kar raha ki apne shubkamnaon ka tokra aapko dun...lekin jab aap kahte ho to pakro ...........:)

    bahut khub!!

    mera blog jindagi kee rahen gumm ho gayee, koi please suggest karen kya karun!

    उत्तर देंहटाएं
  15. ....अरे निश्चिन्त कैसे न रहूँ जी, जब टिप्पणी करने की वजह से पागल माना ही नहीं जायेगा तो टिप्पणी करने से फायदा ही क्या है? में तो आया था आपके ब्लॉग पे की कुछ टिप्पणी करूं औए शामिल हो जाऊं अपनों के बीच ,लेकिन सब बेकार, आप लोग उतने पागल लगते नहीं हो जितने की हो ,बहरहाल एक नाकाम सी उम्मीद के सहारे कुछ दर्ज कर रहा हूँ,की शायद किसी पागल को इस पगलापे पे कोई पागल्पंती की सुगंध आ जाये ...!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप समझे नहीं राजेश जी, हमने कहा कि सिर्फ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं मान लिया जाएगा, कुछ और दमदार बेहूदगियां भी कर दिखानी होंगी, करते रहनी होंगीं। हम जितने पागल हैं उतने लगते नहीं हैं, यही तो हमारी विशेषता है। आप उम्मीद बनाए रखिये क्योंकि इसीपर तो पागलों की दुनिया टिकी है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. यो लिक्खो
    घनी सुब्कामना कूकर नी पसंद से
    तने तो आसिरबाद देवे दादी

    उत्तर देंहटाएं
  18. हम तो बहुत देरी से पहुँचे।
    00000
    http://yuvaam.blogspot.com/2013_01_01_archive.html?m=0

    उत्तर देंहटाएं

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं 'पुराने पोस्ट'(Older Posts) पर क्लिक करें-