BookShelf

शनिवार, 20 जुलाई 2013

मेरे क़दमों में आ गिरी खिड़की

ग़ज़ल

एक खिड़की से दूसरी खिड़की
ज़िंदगी रह गई निरी खिड़की

आसमां जिसपे, बंद दरवाज़ा
उसके जीवन में बस झिरी खिड़की

कुछ तो देखा भी करदो अनदेखा
बन न जाए ये झुरझुरी खिड़की

उसके ख़्वाबों पे क्या गिरी बारिश ?
उसके आंसू में क्यों तिरी खिड़की !

सर मेरा आसमां से टकराया
मेरे क़दमों में आ गिरी खिड़की


-संजय ग्रोवर

ताज़ा बारिश में ताज़ा ग़ज़ल

2 टिप्‍पणियां:

  1. तेरे आने का रास्ता देखा.

    धुंध से फिर घिरी खिड़की.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कितनी सारी खिड़कीयां.....
    ज़िंदगी रह गई निरी खिड़की..
    निजात है कोई इससे...

    उत्तर देंहटाएं

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं 'पुराने पोस्ट'(Older Posts) पर क्लिक करें-