BookShelf

मोबाइल ले लो, कंप्यूटर ले लो, कपड़े ले लो, बर्तन ले लो, किताबें ले लो, कुछ ले लो, कुछतो ले लो

मंगलवार, 22 सितंबर 2015

चालू

लघुकथा  

उन्होंने जाल फेंका।

शिकार किसी तरह बच निकला।


यूं समझिए कि ख़ाकसार किसी तरह बच निकला।


भन्ना गए। सर पर दोहत्थड़ मारकर बोले, ‘‘तुम तो कहते थे भोला है। देखो तो सही साला कितना चालू आदमी है।’’


-संजय ग्रोवर

('संवादघर' से साभार)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

Google+ Followers