गुरुवार, 25 जून 2015

पुरस्कार

लघुव्यंग्य



ख़ुशबू ज़बरदस्त थी।
चूहा ख़ुद ही पिंजरे में घुस गया।
खटाक्क!


-संजय ग्रोवर
25-06-2015



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

Google+ Followers