BookShelf

मोबाइल ले लो, कंप्यूटर ले लो, कपड़े ले लो, बर्तन ले लो, किताबें ले लो, कुछ ले लो, कुछतो ले लो

मंगलवार, 2 अगस्त 2016

पागलखाना एफ़ एम : बात से बात-5/निराकार में भी कुछ नहीं रक्खा.....

एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

Google+ Followers

ब्लॉग आर्काइव