शनिवार, 6 अगस्त 2016

पागलखाना एफ़ एम: बात से बात-6/दोनों पे हंस सकता हूं....

एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

निश्चिंत रहें, सिर्फ़ टिप्पणी करने की वजह से आपको पागल नहीं माना जाएगा..

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं 'पुराने पोस्ट'(Older Posts) पर क्लिक करें-

ब्लॉग आर्काइव